Bhakti Song Lyrics | Bhakti Song Hindi | चौरासी कोसों की लगावै परिक्क्मा

Bhakti Song Hindi

तर्ज – कर लो मेरा एतबार चलो, चांद के पार चलो 

दोहा . मेरी करुणा किसी बंधन से कम नहीं है।
मेरे भारत की मिट्टी किसी चंदन से कम नहीं है॥

Bhakti song, bhakti song lyrics,

चौरासी कोसों की लगावै परिक्क्मा,
देखने वृन्दावन मैं चलो टेड़े खम्बा।
कहीं तो मिलेंगे घनश्याम चलो,
गोवर्धन धाम चलो गोवर्धन धाम चलो।।

ये भी पढ़ें – जवाबी कीर्तन भजन

(1) एक एक पग लाखों यज्ञों के, फल को देने वाला है।
ब्रिज चौरासी कोसों मैं, पुण्य का हुआ उजाला है।।
मुरलीवाले का दामन थाम चलो…

ये भी पढ़ें – धनतेरस की कथा

(2) नंदगांव और बरसानों, देखो राधा प्यारी कौ।
नहायवो जमुना मैया को, वृन्दावन रास बिहारी कौ।।
राधे – राधे का रटते नाम चलो …

ये भी पढ़ें – फ़िल्मी तर्ज भजन

(3) ब्रजराज माथे का चन्दन, भाल पै तिलक लगा लेना।
दर्शन बांकेबिहारी का करके, ज्योति जला लेना।।
परिकम्मा देने नंगे पाम  चलो…

ये भी पढ़ें – पितृ दोष के लक्षण

(4) सबरे तीरथ बार बार कोई ब्रज को तीरथ एक बार।
राधा मोहन रमते है पात – पात और डार – डार।।
ढूढ़ने किशन को हर गांम चलो…

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0 Shares