Category: Bhajan

Dussehra Par Kavita | Dussehra Par Poem | Vijaya Dashami Poem In Hindi

Dussehra Par Kavita तर्ज – हमें और जीने की चाहत न होती   दो. नौ दुर्गा जब बीत गए और आयो दशहरा आज। आज ही रावण मारकर, किये राम ने पूरे काज।।। रावण ने सीता गर चुराली न होती, दशहरा न होता, दिवाली न होती।।  ये भी पढ़े – देश भक्ति गीत  (1) कुबड़ी की बातो

Filmi Tarj Bhajan Lyrics In Hindi | फिल्मी तर्ज भजन, विधि का बना विधान विधाता

Filmi Tarj Bhajan Lyrics in Hindi तर्ज – छेड़ मिलन के गीत रे मितवा  विधि का बना विधान विधाता। इंसा निर्बल सदा रहा है, समय बड़ा बलवान विधाता।। ये भी पढ़ें – नारी शक्ति पर कविता (1) सतयुग में जलंधर परतापी, हार न मानै अपनी कदापि। समय ने कर दायी ना इंसाफ़ी, लै लये बाके प्राण

Filmi Tarj Bhajan Lyrics | फ़िल्मी तर्ज भजन | गीता से बढ़कर के कोई भी ज्ञान नहीं है

Filmi Tarj Bhajan Lyrics तर्ज – मेरे दिल की है आवाज  दो. गीता ज्ञान की कुंजी है रामायण ग्रन्थ महान। प्रत्यक्ष के लिये किसी को नहीं चहिये कोई प्रमाण।। गीता से बढ़कर के कोई भी ज्ञान नहीं है रावण से बढ़कर के कोई विद्वान नहीं है बाली से बढ़कर कोई बलवान नहीं है कन्यादान से

Filmi Tarj Bhajan | फिल्मी तर्ज भजन | युग-युग से मेरा देश वीरों की खान था

Filmi Tarj Bhajan तर्ज – सौ साल पहले मुझे तुमसे प्यार था  दो. सतयुग से लेकर कलयुग तक ये मेरा देश महान। लेख शास्त्र सब कह रहे हम वीरान की संतान।। युग-युग से मेरा देश वीरों की खान था। जो आज भी है और कल भी रहेगा।। ये भी पढ़ें – नारी शक्ति पर कविता (1)

Bhakti Song Lyrics | Bhakti Song Hindi | चौरासी कोसों की लगावै परिक्क्मा

Bhakti Song Hindi तर्ज – कर लो मेरा एतबार चलो, चांद के पार चलो  दोहा . मेरी करुणा किसी बंधन से कम नहीं है। मेरे भारत की मिट्टी किसी चंदन से कम नहीं है॥ चौरासी कोसों की लगावै परिक्क्मा, देखने वृन्दावन मैं चलो टेड़े खम्बा। कहीं तो मिलेंगे घनश्याम चलो, गोवर्धन धाम चलो गोवर्धन धाम

Jawabi Kirtan Bhajan Lyrics | जवाबी भजन अवध मैं जाकर देख तुझे श्री राम मिलेंगे

Jawabi Kirtan Lyrics तर्ज – मेरे दिल की है आवाज बिछड़ा यार मिलेगा तू अवध मैं जाकर देख, तुझे श्री राम मिलेंगे मथुरा में जायेगा तो घनश्याम मिलेंगे तुलसी के नीचे शालग्राम मिलेंगे सिरणी मैं जाएगा तो सांई राम मिलेंगे हनुमत सा बनकर देख जिगर सियाराम मिलेंगे इन मात पिता के चरणों मैं, चारों धाम

Satsang Bhajan Lyrics | मन का मैल मिटा न सको तो, तन की सफाई मत करना

Satsang bhajan तर्ज – अब मैं मर मर के जीने लगा हूँ शैर – तेरा दीवाना हूँ मैं सांवरे कैसे कह दू कि तुझसे प्यार ना। कुछ सरारत तेरी नजर की भी है, मैं अकेला गुनेगार ना।।       तू  याद   करे  ना  करे,   इसका  मुझे  कोई  गम  नहीं। तेरी याद न करने की

Mata Rani Bhajan Lyrics | कैसा है तेरा संसार माँ मुझे इतना बतादे इतना बतादे धीर..

Mata Rani Bhajan Lyrics तर्ज – हुजूर आते आते बहुत देर कर दी  शैर – तारदे माँ तारदे सब भक्तों को तारदे। किस्ती फँसी मझधार मैं आकर पार करदे।। दर्शन की मेरे मन में लगी है। दर्शन तू दे जा माँ शेरावाली।। (1) तुम्हारे दर पर कोई आया भिखारी आ जाओ चढ़कर अम्बे शेर की

Ganesh vandana lyrics | सब करो वन्दना गणपति की मिलकर के जय जयकार करो

Ganesh Vandana तर्ज – तेरे पूजन को भगवान बना मन मन्दिर… जय जय गणपति जी महाराज प्रथम हम तुम्हें मनाते हैं। (1) गौरा जी तुम्हारी माता। महादेव पिता जगदाता।। सब देवों में सरताज , प्रथम हम तुम्हें मनाते हैं ये भी पढ़ें – विजया दशमी पर कविता (2) तुम मूसे की करौ सवारी। त्यारी महिमा जग

Chetavani Bhajan Lyrics बीतींगी साल पै साल बुढापौ आवेगो, तू भजि गोविंद गोपाल

Chetavani Bhajan तर्ज – अब मैं मर मर के जीने लगा हूँ हंस एक दिन उड़ेगा अकेला, जीते जी का है झंझट झमेला।। (1) हंस तेरा ये घर छोड़ देगा, सारे बंधन तेरे तोड़ देगा। कोई आये पवन का सा रेला…. (2) गुरु की महिमा न जाएगी वरनी, गुरु जाएगा अपनी ही करनी। अपनी करनी