Chetavani Bhajan Lyrics बीतींगी साल पै साल बुढापौ आवेगो, तू भजि गोविंद गोपाल

Chetavani Bhajan

तर्ज – अब मैं मर मर के जीने लगा हूँ

हंस एक दिन उड़ेगा अकेला,
जीते जी का है झंझट झमेला।।

हंस तेरा ये घर छोड़ देगा,
सारे बंधन तेरे तोड़ देगा।
कोई आये पवन का सा रेला….

(2) गुरु की महिमा न जाएगी वरनी,
गुरु जाएगा अपनी ही करनी।
अपनी करनी जायेगा चेला…

(3) न काया तेरी ये हलेगी,.
और हुकूमत कोई न चलेगी।
दूत मारेंगे जम के ढकेला…

(4) परषोत्तम प्रभु नाम गाले,
और अपना प्रभु को बनाले
फिर ऐसी मिलेगी ना बेला…

ये भी पढ़ें –  Filmi Tarj Bhajan Lyrics in Hindi

ये भी पढ़ें – Filmi Tarj Bhajan Lyrics

 ये भी पढ़ें –  Filmi Tarj Bhajan

Chetavani Bhajan Lyrics

तर्ज – सपने में रात ने आया मुरलीवाला

बीतींगी साल पै साल, बुढापौ आवेगो।
तू भजि गोविंद गोपाल, नहीं तो पछितावेगो।।

(1) तू माँ के गर्भ मैं आया, ईश्वर से ध्यान लगाया।
पैदा होकर चिल्लाया, तोसे लिपट गयी है माया।।
तोसे लग गए पाँच दलाल, नहीं बचि पावेगौ….

(2) तेरी ज्वानी की कमाई, तेरे काम नहीं है आयी।
तू अन्त समय पर मूरख, देगौ राम दुहाई।।
तोकू होयगो बड़ो मलाल, माल कोई खावेगो….

(3) ओ मनुआ मतवारे तू, छोड़ि के झंझट सारे।
मन बसाले मूरत प्रभु की, क्यों भटके द्वारे – द्वारे।।
हरि कृपा कौ देखि कमाल, अज्ञान हट जावेगो……

(4) शिव नाम सुना सतसंगा, शिव लट मैं विराजै गंगा।
शिव भक्ति बिना ओ मूरख, हो जन्म – जन्म को नंगा।।
परषोत्तम करै सवाल, कहा बतलावेगौ….

ये भी पढ़ें – Bhakti Song Lyrics

ये भी पढ़ें – Jawabi Bhajan Lyrics

ये भी पढ़ें – Satsang Bhajan Lyrics

Chetawani bhajan lyrics

तर्ज – गजल

जीव जीवन मिला है जगत में तुझे
भावना भाव भक्ति भजन के लिये
मन के मन्दिर मैं ऐसी तू मूरति सजा
जैसे सजती है सजनी सजन के लिये

(1) खाली झोली हरि नाम से भर गई।
जिनकी पद रज से गौतम त्रिया तर गई।।
राम जाने वो रज ही कहाँ खो गई,
बहुत ढूढी मिली ना गमन के लिये…

(2) कर्म खोटे न कर तू इस संसार में।
बनी डूबेगी नैया तेरी मझधार मैं।।
क्या दिखायेगा मुख उनके दरबार में,
लाज भी ना मिलेगी लजन के लिये…

(3) हो मगन मन लगाले लगन राम से।
तैरे पानी पै पत्थर इसी नाम से।।
मोह है जो तुझे सत्य के नाम से,
हो जा तैयार त्रष्णा तजन के लिये…

(4) त्यागी त्याग कपट पट के पट खोल ले।
प्रेम से राधे कृष्ण हरी बोल ले।।
तोल सकता है तो शौक से तोल ले,
मेरी कविता है बजनी बजन के लिये…

ये भी पढ़ें – Mata Rani Bhajan Lyrics

ये भी पढ़ें – Ganesh Vandana Lyrics

ये भी पढ़ें – Mahila Divas Par Geet

Chetawani bhajan in hindi

तर्ज – रंग मत जइयो रंग विराने मैं

फँसि मत जइयो दुनियादारी मैं, दाल गलै नाय तेरी।
दाल गलै नाय तेरी अरे रे, पार परे नाय तेरी।।

(1) ये दुनिया है देखि बहुरंगी,
बहुरंगीन मैं बड़े कुसंगी।
ऐसे कुसंगिनी की यारी में, दाल गलै…

(2) दाल नहीं तेरी गल पावै,
दुनिया संग मैं ना चल पावै।
तू रह जइयो तैयारी में, दाल गलै…

(3) राम नाम की दुनिया न्यारी,
हरि भक्तन की जो है प्यारी।
रह जइयो मारा मारी में, दाल गलै…

(4) दुनिया वाले दम भरते हैं,
मर के सुख में गम मरते हैं।
ये रीति है हर संसारी मैं, दाल गलै…

ये भी पढ़ें – सामाजिक कविता हिंदी में

ये भी पढ़ें – देश भक्ति गीत हिंदी में

ये भी पढ़ें – निर्जला एकादशी व्रत कथा

Chetawani bhajan lyrics in hindi

तर्ज – रसिया

दो. इस रंग रंगेली दुनिया में, रंग हैं देखो अनेक।
प्रेम के रंग में जो रंग जाये, वा मन कू जानों नेक।।

रंग मत जइयो रंग विराने मैं, ओ मनुआ मतवारे…

(1) पाँच तत्व की ये है काया,
मूरख क्यों इसमें भरमाया।
आजा तू समझाने में, ओ मनुआ…

(2) ये दुनिया है आनी जानी,
चार दिन की ये जिन्दगानी।
रह जायगौ पछतावे मैं, ओ मनुआ…

(3) कहा लायौ कहा लेके जावै,
यहाँ कौ यहीं पै देके जावै।
देखले सकल जमाने में, ओ मनुआ…

(4) बाँके बिहारी बनके बाँके,
रास मैं राधा के संग नाचे।
नन्द गाँव बरसाने मैं, ओ मनुआ…

(5) गोपाल मण्डल के मन बसिया,
पीके अनिल बन गये रसिया।
परषोत्तम के गाने में, ओ मनुआ…

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0 Shares