नारी शक्ति पर कविता । Poem on women’s day | महिला दिवस पर कविता

Poem on women’s day

तर्ज – हमें और जीने की चाहत न होती

दोहा – नारी की निंदा मत करो, नारी गुण की खान।
नारी  से पैदा  भये , कोई ध्रुव भक्त हनुमान।।

Poem on Womens Day

वीर भक्त भारत के अन्दर न होते।
नारियाँ न होती, गर नारियाँ न होती।।

ये भी पढ़ें – सामाजिक गीत

(1) सतयुग में नारी ने वीर भक्त जाए।
काम वो सभी के हर वक्त आए।।
सबको जीतने वाले जलन्धर न होते…

ये भी पढ़ें – Rama Ekadashi Vrat Katha

(2) त्रेता मैं नारी ने खास कर दिया है।
रावण जैसे पंडित का नाश कर दिया है।।
रामभक्त हनुमत से बन्दर न होते…

ये भी पढ़ें – देश भक्ति गीत

(3) द्वापर में चण्डी बन गयी है नारी।
पांडवों की विपता जिसने है टारी।।
करण जैसे दानी धुरंधर न होते…

ये भी पढ़ें – Happy New Year Shayari

(4) कलयुग मैं नारी ने सब कर दिया है।
चन्द्रमा हिमालय पै पैर धर दिया है।।
नारी शक्ति के परषोत्तम पैगम्बर न होते…

Poem on women’s day

Tarj – Hame or jeene ki chahat na hoti

naari ki ninda mat karo naari gun ki khan,
naari se paida bhaye koi dhruv bhakt hanuman.

veer bhakt bharat ke andar na hote,
 naariya na hoti gar naariya na hoti.

ye bhi padhe – Ekadashi Vrat 2019 Date

(1) satyug mai naari ne veer bhakt jaaye,
kaam vo sabhi ke har vakt aaye.
sabko jeetane vaale jalandhar naa hote

(2) treta mai naari ne khaas kar diya hai,
ravan jaise pandit ka naash kar diya hai.
ram bhakt hanumat se bandar naa haote…

(3) dvapar mai chandi ban gayi hai naari,
pandavo ki vipata jisne hai taari.
karan jaise daani dhurandar naa hote…

ye bhi padhe – Samajik Geet In Hindi

(4) kalyug mai naari ne sab kar diya hai,
chandrama himalay pai pair dhar diya hai.
parshottam naari shakti ke paigamber naa hote…

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 Shares