roop chaturdashi katha | रूप चतुर्दशी की कथा | नरक चतुर्दशी, छोटी दीपावली

रूप चौदस या छोटी दीपावली

 


यह त्यौहार दीपावली से एक दिन पहले मनाया जाता है। इस दिन को छोटी दीपावली या रूप चौदस भी कहते हैं। सुबह नहाने से पहले उबटन लगाते हैं। शाम को दिन छिपते ही बाहर के दरवाजे पर नाली के मुँह पर एक दीया जलाते हैं। एक चलनी मैं एक तेल का दीया (पिछली दीवाली का रखा हुआ), एक लोटे में पानी, चने की दाल, खील, बताशे, पैसा, हल्दी भी पूजने को ले जाते हैं। पूजन कर दीया जलाते हैं।

> गोवर्धन पूजा विधि विधान
> Yogini Ekadashi Vrat Katha
> Nirjala Ekadashi Vrat Katha
> Parama Ekadashi Vrat Katha
> Rama Ekadashi Vrat Katha

नरक चतुर्दशी

Roop chaturdashi katha, narak chaturdashi 2018,
Roop chaturdashi

 

इस दिन नर सिंह भगवान का अवतार हुआ था। इसलिए इसे नरसिंह चौदस भी कहते हैं।


भगवान श्री कृष्ण ने इस दिन नरकासुर नाम के राक्षस का वध किया था। इस दिन को नरक चतुर्दशी भी कहते हैं।

> Ravivar Vrat Katha In Hindi
> Samajik Kavita In Hindi
> Desh Bhakti Geet In Hindi
> Pitra Dosh Ke Lakshan

रूप चौदस की कथा

कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को रूप चतुर्दशी के रूप मैं मनाते हैं। इस दिन को नरक चतुर्दशी भी कहा जाता है।इस दिन भगवान श्रीकृष्ण की पूजा करनी चाहिए। इस दिन लोग व्रत भी रखते हैं। ऐसा करने से भगवान सुंदरता प्रदान करते हैं।


रूप चतुर्दशी की कथा इस प्रकार एक समय भारत वर्ष में एक योगिराज हिरण्यगर्भ नामक नगर में रहते थे। उन्होंने अपने मन को एकाग्र करके भगवान में लिप्त होना चाहा। अत: उन्होंने समाधि लगा ली। समाधि लगाए कुछ ही दिन ‍बीते थे कि उनके शरीर में कीड़े पड़ गए। उनके बालों में भी छोटे-छोटे कीड़े लग गए। आंखों की भौंहों और रोओं पर जुएं जम गईं। ऐसी दशा होने के कारण योगीराज बहुत दुखी रहने लगे।

> Chetawani Bhajan Lyrics
> Satsang Bhajan Lyrics

इतने में ही वहां पर नारदजी घूमते हुए करताल और वीणा बजाते हुए आ गए। तब योगीराज बोले- हे भगवान मैं भगवान के चिंतन में लीन होना चाहता था, परंतु मेरी यह दशा क्यों हो गयी?
> धनतेरस की कथा
> अहोई अष्टमी की कथा

तब नारदजी बोले- हे योगिराज! तुम चिंतन करना जानते हो, परंतु देह आचार का पालन नहीं जानते हो। इसलिए तुम्हारी यह दशा हुई है। तब योगिराज ने नारदजी से देह आचार के बारे में पूछा।

> Mata Rani Bhajan Lyrics
> Ganesh Vandana Lyrics

इस पर नारदजी बोले- देह आचार से अब तुम्हें कोई फायदा नहीं है। पहले जो मैं तुम्हें बता रहा हूं उसे करना। फिर देह आचार के बारे में बताऊंगा।

> Jawabi Bhajan Kirtan Lyrics

थोड़ी देर बाद नारदजी बोले – इस साल जब कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी आए तो तुम उस दिन व्रत रखकर भगवान की पूजा ध्यान से करना। ऐसा करने से तुम्हारा शरीर पहले जैसा ही रूपवान और स्वस्थ हो जाएगा।

> Mesh Rashi Rashifal 2019
> Aaj Ka Rashifal
> Aaj Ka Panchang

योगिराज ने ऐसा ही किया और उनका शरीर पहले जैसा था वैसा ही हो गया। इसको उसी दिन से रूप चतुर्दशी भी कहते हैं। हे ईश्वर जैसा आपने योगीराज को रूप दिया था वैसा सबको देना।

आशा करता हूँ आपको हमारी यह जानकारी पसन्द आयी होगी। अगर पसन्द आयी है तो इसे अपने Friends के साथ social media पर share जरूर करें।

 


One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0 Shares